Smart Cities Yojana

Smart Cities Yojana



प्रधानमंत्री मोदी अपने अगले चरण की तरफ बढ़ते हुए समार्ट सिटी (Smart City) प्रोजेक्ट का विमोचन करने को हैं | इसके तहत देश में 100 शहरो को समार्ट सिटी (Smart City) बनाने का निर्णय सरकार द्वारा लिया गया हैं | कम से कम एक समार्ट सिटी (Smart City) सभी राज्यों में हो ऐसा पैमाना तैयार किया गया हैं |जिसके लिए राज्य सरकारों को 15 दिन में अपने राज्य के शहरो की सूचि भेजना को कहा हैं | 25 जून 2015 को स्वयं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समार्ट सिटी (Smart City) प्रोजेक्ट को देश वासियों के सामने पैश किया हैं |

केन्द्रीय शहरी विकास मंत्री वेंकैया नायडू ने यह बताया कि

प्रत्येक राज्य में एक समार्ट सिटी (Smart City) होगी |

उन्होंने कहा कि स्मार्ट सिटी का कार्य दो चरणों में होगा पहला नयी स्मार्ट सिटी का निर्माण, दूसरा पुराणी सिटी का नवीनीकरण |

नयी स्मार्ट सिटी के लिए दो बड़े शहरों के बीच एक समार्ट सिटी (Smart City) देने की सोच हैं |

जिस शहर में 1 लाख से अधिक की आबादी हैं उसे समार्ट सिटी (Smart City) बनाया जायेगा |

जिन शहरों को समार्ट सिटी (Smart City) बनाना हैं उसमे म्यूनिसिपल कारपोरेशन, बिजली की व्यवस्था एवम पानी की व्यवस्था के साथ ट्रांसपोर्ट की व्यवस्था होना जरुरी हैं |साथ ही आईटी इस्तेमाल शहर हो |

साथ ही यह भी कहा गया कि एक समार्ट सिटी (Smart City) अपने नजदीकी शहर को विकास में मदद मिलेगी |

स्मार्ट सिटी में सबसे ज्यादा उत्तर प्रदेश के शहरों के नाम सम्मिलित किये गये हैं |

स्मार्ट सिटी के लाभ

देश में जो महा नगर हैं उन्हें तो सभी सुविधायें मिलती ही है फिर वो तकनीकी ज्ञान हो यह व्यावहारिक ज्ञान यहाँ के स्टूडेंट हर मायने में सामान्य शहरी लोगो की तुलना में स्मार्ट होते हैं ऐसे में हर प्रदेश में स्मार्ट सिटी (Smart City) का आना सभी के लिए कारगर साबित होगा |

छोटे- छोटे गाँव में विकास बहुत ही धीरे होता हैं ऐसे में स्मार्ट सिटी (Smart City) का आना इन गाँव के विकास में मदद करेगा |

छोटे शहरों के स्टूडेंट में भी कला, ज्ञान के बहुत अच्छे उदहारण मिलते हैं पर उन्हें उचित प्लेटफार्म नहीं मिलता लेकिन स्मार्ट सिटी (Smart City) जैसे प्रोजेक्ट के कारण उन्हें भी समय पर और थोड़ी आसानी से आगे बढ़ने का मौका मिलेगा |

स्मार्ट सिटी (Smart City) में बाहरी कंपनी अपनी कंपनी ओपन करेंगी जिससे रोजगार मिलेगा और गरीबी में नियंत्रण होगा |

स्मार्ट सिटी (Smart City) का यह सपना बहुत बड़ा हैं बस जिस रोड मैप के साथ इसे लाया जा रहा हैं अगर उसी दिशा में पूरी ईमानदारी के साथ कार्य किया जायेगा तो जरुर एक दिन भारत भी स्मार्ट कंट्री में गिना जायेगा |

25 जून 2015 को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने स्मार्ट सिटी (Smart City) के कॉन्सेप्ट को देशवासियों के सामने रखा जिनमे उन्होंने सीधे देशवासियों को संबोधित करते हुए कहा कि आपका शहर स्मार्ट सिटी बनने के लिए सही हैं या नहीं | यह केवल आपका शहर ही तय करेगा | मोदी जी ने एक लाइन कहते हुए स्मार्ट सिटी (Smart City) के कॉन्सेप्ट को परिभाषित किया “ऐसा शहर जो नागरिक की जरुरत से दो कदम आगे हो |

स्मार्ट सिटी (Smart City) के लिए कुछ मापदंड तैयार किये गये हैं जिस शहर में यह सभी गुण होंगे उन्हें स्मार्ट सिटी में शामिल किया जायेगा |यह सभी गुण होने पर एक शहर को स्मार्ट सिटी कहा जायेगा |

स्मार्ट सिटी के लिए मापदंड कुछ इस तरह हैं

  1. 24 घंटे बिजली एवम पानी की सुविधा होना चाहिये |
  2. शहर में उचित ट्रांसपोर्ट सुविधा होना चाहिये |
  3. सड़को का उचित वर्गीकरण होना चाहिये जिसके तहत फुटपाथ एवम वाहन पाथ उचित तरह से बनाये जायें |
  4. हाईटेक ट्रांसपोटेर्शन होना चाहिये |पब्लिक यातायात सुगम होना चाहिये |
  5. शहर में हरियाली होना चाहिये |
  6. शहर एक अच्छी योजना के तहत बढायें गये हों |
  7. पुरे शहर में वाईफाई सिग्नल हो |
  8. शहर में एक स्मार्ट पुलिस स्टेशन भी होगा |

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपनी स्पीच में देश वासियों से पूरा सहयोग देने का अनुरोध किया हैं | जिस प्रकार स्वच्छ भारत मिशन में सरकार से ज्यादा एक्टिव जनता एवम मीडिया हैं उसी प्रकार अपने शहर को स्मार्ट सिटी बनाने में सभी नागरिको को भी जागरूक होना होगा |

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने खुलकर मीडिया की तारीफ की जिस तरह मीडिया सफाई अभियान के लिए सभी को जागरूक करती आई हैं यह सराहनीय हैं | मोदी जी ने देश के विकास में सभी को भागीदारी बनाया हैं |

स्मार्ट सिटी के लिए केंद्र द्वारा 48 हजार करोड़ रुपए का बजट तैयार किया गया हैं |इसके अलावा भी दो योजनायें सरकार द्वारा लॉन्च की गई हैं | इन तीनो योजनाओं को सरकार ने काफी देख परख कर स्वयं मोदी जी के सानिध्य में स्टार्ट किया हैं | साथ ही इसके लिए प्रदेशों एवम नगर निगमों को भी अपनी राय देने के लिए आमंत्रित किया गया हैं |

स्मार्ट सिटी एक अभूत बड़े पैमाने पर लायी गई योजना हैं जिसे मूलरूप देने के लिए सभी का सहयोग आवश्यक हैं |

प्रधानमंत्री मोदी जी ने गुजरात में एक स्मार्ट सिटी डेवेलप्मेंट का कार्य शुरू भी कर दिया हैं इस स्मार्ट सिटी का कार्य मोदी जी ने वर्ष 2011 में अहमदाबाद के नजदीक ही शुरू कर दिया था जिसे गुजरात इंटरनेशनल फाइनेंशल टेक (GIFT) नाम दिया गया हैं | यह गुजरात इंटरनेशनल फाइनेंशल टेक अन्य स्मार्ट सिटी के लिए एक उदहारण का कार्य करेगी |

Smart City का यह फैसला हम सभी के लिए बहुत अच्छा होगा | देश के विकास के लिए शहरो के विकास जरुरी हैं और साथ ही गाँव की रुपरेखा भी सुधारना बहुत जरुरी हैं | जिसके लिए हर राज्य में एक स्मार्ट सिटी होना जरुरी हैं | और जिस दिन यह कार्य हो जायेगा देश का विकास तेजी से होगा |

Smart City एक ऐसा कॉन्सेप्ट हैं जो हम सभी को डिजीटल दुनियाँ के और भी करीब ले जायेगा |जिससे विज्ञान की तेजी के साथ ही हम सबका का मानसिक विकास होगा | हममे और पश्चिमी देशो में बस डिजिटलाइजेशन का ही फर्क हैं | हमारे विकास की दर कम हैं उसका कारण हैं डिजिटल दुनियाँ से हमारी दुरी | अगर हम यह दुरी तय कर लेते हैं तो हम आसानी से विकसित देश की गिनती में आ खड़े होंगे |

मोदी जी ने अपनी स्पीच में यह स्पष्ट कर दिया हैं कि यह स्मार्ट सिटी योजना उपर से नहीं नीचे से शुरू हो रही हैं जिसमे अपने शहर की जानकारी एवम समस्या पर पहली बार नगर निगम एवम पालिका बात करेंगी | लोगो को जागरूक बनाने के लिए # Mera Shahar Mera Sapna (मेरा शहर मेरा सपना )का स्लोगन भी श्री मोदी जी ने दिया |अब इस दिशा में कार्य निम्न स्तर से शुरू होगा |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *